मंगलवार, 13 सितंबर 2011

मेरी पसंद.....

न किसी की आँख का नूर हूँ न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ


न तो मैं किसी का हबीब हूँ न तो मैं किसी का रक़ीब हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गया वो दयार हूँ


मेरा रंग-रूप बिगड़ गया मेरा यार मुझ से बिछड़ गया
जो चमन फ़िज़ाँ में उजड़ गया मैं उसी की फ़स्ल-ए-बहार हूँ


पढ़े फ़ातेहा कोई आये क्यूँ कोई चार फूल चढाये क्यूँ
कोई आके शम्मा जलाये क्यूँ मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ


मैं नहीं हूँ नग़्मा-ए-जाँफ़िशाँ मुझे सुन के कोई करेगा क्या

मैं बड़े बरोग की हूँ सदा मैं बड़े दुख की पुकार हूँ


0 बहादुर शाह ज़फ़र


19 टिप्‍पणियां:

  1. लोगों के मन से बहुधा निकलती है, जफ़र की यह गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमाल है जी , कित्ती सुँदर ग़ज़ल . बाटने के लिए शुक्रिया .

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा ग़ज़ल...पेश करने के लिए शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या लाजवाब बिम्ब प्रयुक्त किये हैं आपने...

    मनमोहक ,बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल...वाह!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    *************************
    जय हिंद जय हिंदी राष्ट्र भाषा

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओह!तुमने पोस्ट भी की है...हमने तो फेसबुक पर ही अपनी बात कह दी...

    BTW तुम्हारी तस्वीर भी बहुत सुन्दर लग रही है...खोई खोई सी

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह तो मशहूर गजल है -हमें भी पसंद ....वैसे जो आपको पसंद हो वो हमें भी है :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है कृपया पधारें
    चर्चामंच-638, चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल है
    शुक्रिया !!!

    उत्तर देंहटाएं





  10. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और
    शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं तो भूल ही गया था इस ब्लॉग को। यहां तो अद्भुत साहित्य का संकलन हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी लेखनी में एक जादू है जो किसी अपरिचित को अपनी ओर खिंच ही लती है | धन्यवाद |VISIT HERE... http://www.akashsingh307.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. laazwaab ghazal.. behatarin... thanks for sharing...
    Alok Upadhayay

    उत्तर देंहटाएं