रविवार, 14 अगस्त 2011

वो दिन के जिसका वादा है......

मेरा पसंदीदा गीत है ये, राष्ट्रगीत की तरह.....




हम देखेंगे
लाज़िम है कि हम भी देखेंगे
वो दिन के जिसका वादा है
जो लौहे-अज़ल में लिखा है
जब ज़ुल्मो-सितम के कोहे-गराँ
रुई की तरह उड़ जायेंगे
हम महकूमों के पाँव तले
जब धरती धड़-धड़ धड़केगी
और अहले-हिकम के सर ऊपर
जब बिजली कड़कड़ कड़केगी
जब अर्ज़-ऐ-ख़ुदा के का'बे से
सब बुत उठवाये जायेंगे
हम अहले-सफ़ा, मरदूद-ऐ-हरम
मसनद पे बिठाये जायेंगे
सब ताज उछाले जायेंगे
सब तख्त गिराए जायेंगे
बस नाम रहेगा अल्लाह का
जो गायब भी है हाज़िर भी
जो मंज़र भी हैं, नाज़िर भी
उट्ठेगा अनलहक़ का नारा
जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
और राज करेगी खल्के-खुदा
जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
० फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

10 टिप्‍पणियां:

  1. सब ताज उछाले जायेंगे
    सब तख्त गिराए जायेंगे
    बस नाम रहेगा अल्लाह का...
    कमाल की नज़्म का इंतखाब किया वंदना जी...
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम अहले-सफ़ा, मरदूद-ऐ-हरम
    मसनद पे बिठाये जायेंगे
    सब ताज उछाले जायेंगे
    सब तख्त गिराए जायेंगे
    बस नाम रहेगा अल्लाह का
    जो गायब भी है हाज़िर भी
    जो मंज़र भी हैं, नाज़िर भी
    उट्ठेगा अनलहक़ का नारा
    जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
    और राज करेगी खल्के-खुदा
    जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
    hame to usi din se pasand aaya raha jab tumne ise sunvaya tha aur mere mob. me bhara ,aaj padhkar maja duguna ho gaya ,jai hind aur dhero badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    HAPPY INDEPENDENCE DAY!

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उट्ठेगा अनलहक़ का नारा
    जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
    और राज करेगी खल्के-खुदा
    जो मैं भी हूँ और तुम भी हो

    बहुत ख़ूब्सूरत नज़्म है वंदना ,,,फ़ैज़ कमाल के शायर इंसान दोस्त शख़्सियत
    इस नज़्म को मुन्तख़िब करने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया
    यौम ए आज़ादी मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह बेहतरीन !!!!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    उत्तर देंहटाएं
  8. फैज साहब की अनमोल नज्म , अवाम की हुकूमत अवाम के लिए . सच्चा प्रजातंत्र ., आज़ादी की ६५ वी वर्ष गांठ मुबारक हो .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी रचना पढ़वाई आपने।

    उत्तर देंहटाएं