गुरुवार, 14 जनवरी 2010

मेरी पसंद....


वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है,
माथे पे उसके चोट का गहरा निशान है.

वे कर रहे हैं इश्क पे संजीदा गुफ़्तगु,
मैं क्या बताऊँ, मेरा कहीं और ध्यान है.

सामान कुछ नहीं है फटेहाल है मगर,
झोले में उसके पास कोई संविधान है.

उस सिरफिरे को यों नहीं बहला सकेंगे आप,
वो आदमी नया है मगर सावधान है.

फिसले जो इस जगह तो लुढ़कते चले गए,
हमको पता नहीं था कि इतना ढलान है.

देखे हैं हमने दौर कई, अब खबर नहीं,
पांवों तले ज़मीन है या आसमान है.

वो आदमी मिला था मुझे उसकी बात से
ऐसा लगा कि वो भी बहुत बेजुबान है.

दुष्यंत कुमार


29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत शुक्रिया..वंदना जी...मुझे लगता है... दुष्यंत कुमार तो सबके फेवरेट है...उनकी रचना पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. उस सिरफिरे को यों नहीं बहला सकेंगे आप
    वो आदमी नया है मगर सावधान है
    फिसले जो इस जगह तो लुढकते चले गए
    हमको पता नहीं था कि इतना ढलान है
    सागर में मोती जैसी दुष्यंत कुमार जी की इस बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल से रूबरू कराने के लिए आभार और धन्यवाद्.

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुष्यंत जी रचना पढ़वाने के लिए आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह जी क्या बात है , दुष्यंत जी को पढवाने के लिए आभार
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह तो मेरी भी पसंद है,आभार फिर से पढवाने का.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह क्‍या कहने आपके पसंद की । यह उन गजलों में से है कि चाहे जितनी बार पढो जी नहीं भरता ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वाह जी,
    क्या बात है दुष्यंत जी की।
    बहुत बहुत आभार उनकी याद दिलाने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बड़ा परेशाँ है फटेहाल आदमी
    झोले में अब संविधान तक नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. दुश्यन्त कुमार जी की गजल पढ़वाने के लिए आपका आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसको पढवाने के लिएय शुक्रिया ..दुष्यंत जी का लिखा कौन भूल पाता है

    उत्तर देंहटाएं
  12. दुष्यंत जी ने आने वाले समय को बाखूबी पहचाना और अपनी कलम से ग़ज़ल को नयी दिशा दी ........... बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल लगाईं है आपने ...... बहुत बहुत शुक्रिया ...........

    उत्तर देंहटाएं
  13. दुष्यंत जी की रचना प्रस्तुति के लिए धन्यवाद ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. dushyant ji padhwane ka bhaut abhar...vo to shayad ham sabke favt. hain.

    उत्तर देंहटाएं
  15. diwane ,diwane hai hum bhi ,bhet bhi karte hai aur padhte bhi hai aksar inki pustake ,bachpan se hi lagao raha hai dushyant ji ki rachnao se ,shukriya .

    उत्तर देंहटाएं
  16. दुष्यंत वो अमर रचनाकार है जिस तक हर ऐरे गैरे नत्थू खैरे की पहुँच हो ही नहीं सकती. आप की पसंद हैं दुष्यंत, आपके व्यक्तित्व की ऊंचाई इसी से पता चल जाती है. आज के दौर में, जब हर कोई, समर्थ-असमर्थ तक, अपने और केवल अपने प्रचार में व्यस्त है, आप जैसे बहुत कम लोग हैं जो दूसरों, पुराने, महान रचनाकारों को महत्व देते हों.
    मैं आपकी लेखनी का मुरीद था, अब मैं आपका सम्मान भी करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  17. शुक्रिया वंदना जी... ये अच्छा किया... कई बार ब्लॉग के द्वारा भी कुछ अच्छा इस तरह का पढने मिल जाता है और यक़ीनन इसका खुमार उतारे नहीं उतरेगा..

    उत्तर देंहटाएं
  18. दुष्यंत जी मेरे भी प्रिय शायर हैं.

    ..पढाने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वंदनाजी,
    दुष्यंतजी की ये ग़ज़ल पढवा कर आपने जाने किन पुराने दिनों में जाने को मुझे विवश कर दिया है !
    देर से आया, गुस्ताखी माफ़ !
    सप्रीत--आ.

    उत्तर देंहटाएं
  20. इतने सारे लोगों ने इतना कुछ लिख दिया की मेरे लिखने के लिए कुछ भी नहीं बचा.बस बहुत बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  21. दुष्यंत जी की ये ग़ज़ल पढ आनंदित हुआ. वंदना जी, बहुत अच्छा पोस्ट लगाया है आपने चित्र सहित.

    शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपको और आपके परिवार को वसंत पंचमी और सरस्वती पूजन की हार्दिक शुभकामनायें!
    ग़ज़ल बहुत अच्छा लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  23. फिसले जो इस जगह तो लुढ़कते चले गए...
    हमको पता नहीं था के इतना

    ढलान है..

    aabhaar aapkaa...

    उत्तर देंहटाएं