रविवार, 10 मई 2009

"ऐसी होती है माँ"

तेरे दामन में सितारे हैं, तो होंगे ऐ फलक,
मुझको अपनी माँ की मैली ओढ़नी अच्छी लगी।

लबों पे उसके कभी बददुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती।

ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न लौटूं, मेरी माँ सज़दे में रहती है।

( माँ के लिए कही गई मुन्नवर राना की इन पंक्तियों से बेहतर मुझे कोई और रचना नही लगती)

21 टिप्‍पणियां:

  1. मुन्नवर राना जी की माँ पर लिखी हर पंक्तियाँ गजब की हैं.


    मातृ दिवस पर समस्त मातृ-शक्तियों को नमन एवं हार्दिक शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विजय जी, समीर जी, मुनव्वर राना इस दौर के एक ऐसे शायर हैं, जिनकी तुलना दुष्यंत कुमार से करें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मदर्स डे पर खूबसूरत प्रस्तुति, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच में माँ से बढ़कर कोई नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जी हां अरुणा जी, मां है, तो सब है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. janaab manavvar rana ji ke khoobsurat kehan ko
    hm sb tk pahunchane ke liye shukriya...
    aapke pakeeza khyalaat se bhi ru-b-ru ho gye
    abhivaadan .
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना मन को गहराई तक छूती है। माँ तो माँ होती है, उसका कोई बदल नहीं होता। मैं तो जो हूँ ,माँ की बदौलत ही हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही प्यारी रचना, मन की गहराई तक उतर गई। माँ तो माँ होती है, उसका कोई बदल नहीं होता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. sahmat hu.
    maa par to munavvar rana ne ek se ek sher likhe hai, sabhi dil ko chhu jane wale aur true.

    उत्तर देंहटाएं
  10. maan shabd ko lavzon mein isse acha vyakt karna mushkil hai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. bhut saare bhavo ko aapne thode se shabdo me bhut sundrta se dhaala hai

    उत्तर देंहटाएं
  12. आखिर माँ तो माँ है ना

    उत्तर देंहटाएं